उत्तराखण्ड राज्य ऐसे ही नहीं बन गया, इसमें दो सदी का संघर्ष है, मां बहनों का अपमान है, पीएसी और आरएएफ के जवानों की भद्दी गालियां, लाठी सहना है और बहुत सारी शहादतें भी। यहां पर उत्तराखण्ड आन्दोलन के दौरान शहीदों के नाम दे रहा हूं, सुधीजन पढ़ें, विचारें और फिर समझें।

List of martyr agitators during Uttarakhand state movement

खटीमा ०१ सितम्बर, १९९४
1- भवान सिंह 
2- प्रताप सिंह सिरौला
३- धर्मानन्द भट्ट
४- सलीम अहमद
५- गोपीचन्द
६- परमजीत सिंह
७- रामपाल

मसूरी ०२ सितम्बर, १९९४
१- मदन मोहन ममगांई
२- राय सिंह बंगारी
३- धनपत सिंह
४- बेलमती चौहान
५- हंसा धनई
६- बलबीर सिंह नेगी
७- उमाकांत त्रिपाठी (तत्कालीन डीएसपी)

मुजफ्फरनगर, ०२ अक्टूबर, १९९४
१- सूर्यप्रकाश थपलियाल
२- राजेश लखेड़ा
३- रवीन्द्र सिंह रावत
४- राजेश नेगी
५- सतेन्द्र चौहान
६- गिरीश भद्री
७- अशोक कुमार
८- ओमपाल
९- अतुल त्यागी
१०- रामगोपाल
११- पंकज त्यागी

देहरादून ०३ अक्टूबर, १९९४
१- राजेश रावत
२- बलवन्त सिंह सजवाण
३- जियानन्द बहुगुणा
४- दीपक वालिया

कोटद्वार ०३ अक्टूबर, १९९४
१- राकेश देवरानी
२- पृथ्वी सिंह बिष्ट

नैनीताल ०३ अक्टूबर, १९९४
१- प्रताप सिंह बिष्ट

श्रीयंत्र टापू १० नवम्बर, १९९५
१- राजेश रावत
२- यशोधर बेंजवाल

ऋषिकेश (इसी दिन-१० नवम्बर, १९९५)
१- सूर्यप्रकाश

पौड़ी
१- जोगा सिंह दुग्गल
२- विद्यादत्त
३- नवीन बहुगुणा
४- विजयानन्द जुयाल
५- जीत सिंह गुरुंग (पुलिस विभाग के चालक)

यह चालीस लोगों की सूची है, इसके अलावा ८ अगस्त, २००४ को बाबा मोहन उत्तराखण्डी भी शहीद हुये थे। उक्त सूची में कुछ त्रुटि भी हो सकती है, कृपया जानकार लोग सुधार करने का कष्ट करें।

Previous Post Next Post