Lyrics-Hind Desh Ke Niwasi | हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं।

 hind-desh-ke-niwasi-sabhi-jan-ek-hain


हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं (Hind Desh Ke Niwasi Sabhi Jan Ek Hain) -प्रस्तुत देशभक्ति गीत पद्मश्री विनय चंद्र मौदगल्य द्वारा रचित है। यह गीत वर्षों से भारत के विभिन्न विद्यालयों में प्रार्थना के रूप में हर दिन गाई जाती है। इसके अलावा राष्ट्रीय पर्वों पर यह गीत अनेक जगहों पर बजता है। 

इस गीत के द्वारा बच्चों में भारत की एकता और अखंडता के बारे में बताया गया है तथा उन्हें इस बात के लिए भी प्रेरित किया गया है कि वे भारत के सभी राज्यों की भाषा में अन्तर्निहित देश प्रेम की भावना के प्रति समझ विकसित करें।


 

Hind Desh Ke Niwasi Lyrics in Hindi | हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं गीत के लिरिक्स -

 

हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं,
रंग रूप वेश भाषा चाहे अनेक हैं। 
हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं,
रंग रूप वेश भाषा चाहे अनेक हैं। 

बेला गुलाब जूही चम्पा चमेली
बेला गुलाब जूही चम्पा चमेली,
प्यारे-प्यारे फूल गूंथे माला में एक हैं, 
प्यारे-प्यारे फूल गूंथे माला में एक हैं। 
हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं,
रंग रूप वेश भाषा चाहे अनेक हैं। 

कोयल की कूक न्यारी पपीहे की टेर प्यारी
कोयल की कूक न्यारी पपीहे की टेर प्यारी,
गा रही तराना बुलबुल राग मगर एक है
गा रही तराना बुलबुल राग मगर एक है। 
हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं
रंग रूप वेश भाषा चाहे अनेक हैं। 

गंगा यमुना ब्रह्मपुत्र कृष्णा कावेरी
गंगा यमुना ब्रह्मपुत्र कृष्णा कावेरी,
जाके मिल गयी सागर में हुई सब एक हैं
जाके मिल गयी सागर में हुई सब एक हैं। 

हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं। 
रंग रूप वेश भाषा चाहे अनेक हैं।
हिन्द देश के निवासी सभी जन एक हैं। 
रंग रूप वेश भाषा चाहे अनेक हैं। 

हिन्द देश के निवासी.....

Hind Desh ke Niwasi Lyrics in English-


Hind Desh Ke Niwasi Sabhi Jan Ek Hain.
Rang Rup Vesh Bhasha Chahe Anek Hain.
Hind Desh Ke Niwasi Sabhi Jan Ek Hain.
Rang Rup Vesh Bhasha Chahe Anek Hain.

Bela Gulab Juhi Champa Chameli.
Pyare-Pyare Phool Ghoonthe Mala Me Ek Hain.
Hind Desh Ke Niwasi Sabhi Jan Ek Hain.
Rang Rup Vesh Bhasha Chahe Anek Hain.

Ganga Yamuna Brahmaputra Krishna Kaveri.
Jaker Mil Gayi Sagar Me Hui Sab Ek Hain.
Hind Desh Ke Niwasi Sabhi Jan Ek Hain.
Rang Rup Vesh Bhasha Chahe Anek Hain.

Koyal Ki Kook Pyari Papaiye Ki Ter Nyari.
Koyal Ki Kook Pyari Papaiye Ki Ter Nyari.
Gaa Rahi Tarana Bulbul Raag Magar Ek Hain.
Hind Desh Ke Niwasi Sabhi Jan Ek Hain.
Rang Rup Vesh Bhasha Chahe Anek Hain.

Hind Desh Ke Niwasi Sabhi Jan Ek Hain.
Rang Rup Vesh Bhasha Chahe Anek Hain.


-Vinay Chandra Maudgalya