1 / 7
2 / 7
3 / 7
4 / 7
5 / 7
6 / 7
7 / 7

bedu pako baramasa lyrics
Lyrics- Bedu Pako Baramasa


दूर पर्वतीय लोक से निकल कर पूरे देश-प्रदेश ही नहीं अपितु अंतर्राष्ट्रीय फलक तक अपने पूरे धमक के साथ पहाड़ों और उत्तराखण्ड का प्रतिनिधित्व करने वाला गीत 'बेडू पाको बारामासा' सर्वप्रथम वर्ष 1952 में राजकीय इंटर कॉलेज, नैनीताल के मंच पर गाया गया था। स्व० बृजेन्द्र लाल साह द्वारा रचित और मोहन उप्रेती द्वारा संगीतबद्ध इस गीत को एक बार राजधानी दिल्ली के तीन मूर्ति भवन में एक अंतर्राष्ट्रीय सभा के सम्मान में गाया गया था और एचएमवी द्वारा रिकार्डेड कैसेट्स को सम्मेलन में अतिथियों को भेंट स्वरुप प्रदान किये थे। कहते हैं तब से इस गीत को प्रसिद्धि मिली। 

कुमाऊंनी गीत बेडू पाको बारामासा आज भी उत्तराखण्ड के गढ़वाल और कुमाऊँ के लोगों द्वारा बड़े चाव से सुना जाता है। समय-समय पर इस गीत को अलग-अलग कुमाऊंनी और गढ़वाली गायकों ने गाया है। बॉलीवुड के गीतों में भी कहीं-कहीं इस गीत के मुखड़े का प्रयोग किया गया है। आज बेडू पाको बारामासा गीत में गीतकारों ने अपने-अपने हिसाब से अंतरा जोड़कर गीत को पुनर्जीवित करने की कोशिश की है लेकिन कहते हैं ओल्ड इज गोल्ड।  इस ओल्ड इज गोल्ड गीत के लिरिक्स इस प्रकार हैं -

बेडू पाको बारा मासा,
नरैण काफल पाको चैत मेरी छैला।
बेडू पाको बारो मासा,
ओ नरैण काफल पाको चैत मेरी छैला।।
रुणा  भूणा  दिन आया ,
नरैण को जा मेरी मैता, मेरी छैला।

अल्मोड़ै की नंदा देवी ,
नरैण  फुल चढूनी पाती, मेरी छैला।
जैसी त्वीले बोली मारी ,
ओह नरैण धन्य मेरी छाती मेरी छैला।
बेडू पाको बारो मासा ,
ओ नरैण  काफल पाको चैत मेरी छैला।

नैनीताल की नंदा देवी ,
नरैण फुल चढूनी पाती, मेरी छैला।
बेडू पाको बारो मासा ,
ओ नरैण काफल पाको चैत मेरी छैला।

तेरी खुटी को कान बूड़ो,
नरैण मेरी खुटी में पीड़ा, मेरी छैला।
बेडू पाको बारो मासा ,
ओ नरैण काफल पाको चैत मेरी छैला।

अल्मोड़ै की लाल बजारा-2
नरैण पाथरे की सीणी मेरी छैला।
आपु खानी पान सुपारी -2
ओ नरैण मैकू दीनी बीड़ी मेरी छैला।

बेडू पाको बारो मासा ,
ओ नरैण काफल पाको चैत मेरी छैला।
श्री बिजेंद्र लाल शाह-2
यो तनोरो गीत मेरी छैला।
बेडू पाको बारो मासा ...... 


बेडू पाको बारामासा गीत ऑडियो में सुनें -
 
Previous Post Next Post