Save Forest आओ काफल बचाएं।

SAVE Forest | आओ काफल बचाएं | Kafal
उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में मई-जून के महीने एक फल पकता है जो काफल (वैज्ञानिक नाम: मिरिका एस्कुलेंटा myrica esculata) के नाम से प्रसिद्ध है। खट्टे-मीठे स्वाद का यह गुठली युक्त फल लोगों में काफी लोकप्रिय है।  यही लोकप्रियता इसके लिए अभिशाप साबित हो रही है।  इसके अत्यधिक दोहन के कारण आज काफल के जंगल धीरे-धीरे कम होते जा रहे हैं।  जब ये फल पकते हैं तो लोग झुण्ड के झुण्ड जंगलों में काफल की खोज में चल पड़ते हैं।  बहुत से नासमझ लोगों द्वारा काफल ले पेड़ों को क्षति भी पहुंचाई जाती है। इसी उद्देश्य से सोशल मीडिया पर Social Awareness के लिए मैंने यह पोस्टर डिज़ाइन किया है, आशा है हम सभी इन बातों का पालन अवश्य करेंगे। 

Comments

Popular posts from this blog

Fuldei फूलदेई- उत्तराखंड का एक लोकपर्व।

Kashil Dev | कपकोट और काशिल देव।

कुमाऊं का लोक पर्व - घुघुतिया