interesting

उत्तराखंड की पैंछ परम्परा | Painchh - Tradition of Uttarakhand

Tradition of Uttarakhand- भारत के खूबसूरत और देवभूमि के नाम से विख्यात पहाड़ी प्रदेश उत्तराखंड अपनी संस्कृति और परम्पराओं से भी धनी है। यहाँ ...

संसदीय भव चक्र-अशोक चक्र की 24 तीलियों का अर्थ !

  भारत के राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे के बीच में नीले रंग का चक्र " अशोक चक्र " "Ashok Chakra" कहलाता है। यह चक्र महान बौद्ध स...

Rangyali Pichora पिछौड़ा - सुहाग, शुभ और संस्कृति का प्रतीक।

अक्सर आपने उत्तराखंड की महिलाओं को विवाह या किसी अन्य मांगलिक कार्यों के अवसर पर गहरे पीले सुनहरे रंग की लाल बूटेदार एक आकर्षक ओढ़नी ओढ़े अवश्...

State Emblem and Symbols of Uttarakhand | उत्तराखंड के राजकीय चिह्न और प्रतीक।

उत्तराखंड राज्य 9 नवंबर 2000 को भारत के 27वें राज्य के रूप में अस्तित्व में आया। सन 2000 से 2006 तक यह राज्य उत्तराँचल के नाम से जाना जाता थ...

Kumaoni Ramlila | कुमाऊं की रामलीला।

लेख : चद्रंशेखर तिवारी सांस्कृतिक परम्परा की दृष्टि से उत्तराखण्ड एक समृद्ध राज्य है। समय-समय पर यहां के कई इलाकों में अनेक पर्व और उत्सव मन...

25 अगस्त 1942, सालम की जनक्रांति के रणबांकुरे।

1942 के दौरान कुमाऊं में चले ‘भारत छोड़ो‘ आंदोलन के तहत अल्मोड़ा की सालम पट्टी का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। अल्मोड़ा जनपद के पूर्वी छोर पर बसा ...

आखिर क्यों भूल गये हम 'कालू महर' को

भारतीय स्वाधीनता आंदोलन में उत्तराखण्ड के काली कुमाऊं यानि वर्तमान चम्पावत जनपद का अप्रतिम योगदान रहा है। स्थानीय जन इतिहास के आधार पर माना ...

कुमाऊं का स्वतंत्रता संग्राम | Freedom Struggle of Kumaon-Uttarakhand

उत्तराखंड में स्वतंत्रता संग्राम आंदोलन की प्रारंभिक शुरुआत 1857 के दौर में एक तरह से काली कुमाऊं (वर्तमान चम्पावत जनपद ) से हो चुकी थी। वहा...

तो इसलिए दिया गया बागेश्वर के इस इलाके को दानपुर नाम !

दानपुर का एक खूबसूरत गाँव : खाती। नंदाकोट हिमालय की तलहटी पर बसे वर्तमान जनपद बागेश्वर के आधे भू-भाग को ब्रिटिश राज में दानपुर परगना बनाया ग...

Kumaon Mastiff | कुमाऊंनी मैस्टिफ-जिसकी ताकत और वफ़ादारी के लोग वर्षों से कायल हैं।

पहाड़ों के तकरीबन हर घर में एक पहरेदार होता है, जो मालिक की भेड़, बकरी, गाय आदि पशुओं से लेकर घर की सुरक्षा का जिम्मा संभालता है। यह पहाड़ क...

Ghughutiya Festival - कुमाऊं में घुघुतिया (घुघुत्या त्यार) मनाने के पीछे एक लोककथा।

घुघुतिया त्यौहार पर  बने घुघुते।   Ghughutiya Festival : उत्तराखण्ड के कुमाऊँ में माघ माह की प्रथम दिन एक लोक पर्व मनाया जाता है जिसे '...

Nair (Skimmia Laureola)- नैर के पौधे के धूप से प्रसन्न किये जाते हैं देवी-देवता।

यह उत्तराखण्ड के उच्च हिमालयी क्षेत्र में पाया जाने वाला एक झाड़ीनुमा औषधीय पौधा है। जिसे उत्तराखण्ड में 'नैर' के नाम से जाना जाता ...

Kilmoda किल्मोड़ा - हिमालय की एक औषधीय प्रजाति।

किल्मोड़ा (किलमोड़ी) के फल।  किल्मोड़ा उत्तराखंड के 1400 से 2000 मीटर की ऊंचाई पर मिलने वाला एक औषधीय प्रजाति है। इसका बॉटनिकल नाम ‘बरबर...

Load More
No results found